पिघलती शिला

Pighalti Shila Hindi Short Stories Book by Veena Vij Udit

मुम्बई के सांताक्रुज हवाई-अड़्डे से बाहर निकलते ही वैभव ने चारों ओर नजर दौड़ाई|राजेश तो नहीं दिख रहा था, अलबता सामने भीड़ में हाथ हिलाते हुए ऊष्मा जरुर मुस्कुरा रही थी|राजेश की कमी का ध्यान न करते हुए वैभव की
आंखें ऊष्मा को देख्कर खुशी से चमक उठीं|पास पहुंचकर उसने अर्थपूर्ण मुस्कुराहट बिखेरते हुए ऊष्मा से कहा,”गाड़ी तुम लेकर आई हो क्या? राजेश क्यूं नहीं आया? तुम्हे अधिक इंतजार तो नहीं करना पड़ा?क्या फोन देर से मिला…..?ऊष्मा उसकी बात काटते हुए बीच मे ही बोली, “क्या सभी सवाल अभी पूछ लोगे? हां, गाड़ी मैं लेकर आई हूं|भैया सिंगापुर गए हुए हैं|इंतजार …!हां, केवल आधा घन्टा देर से आई है फ्लाईट |तो इंतजार तो करना ही पडा| अब साँरी मत कहना, चलो बाहर चलें|

Pighaltee Shila

Pighaltee Shila – a collection of Hindi Short Stories – Buy this book
Pighalti Shila Hindi Short Stories Book by Veena Vij Udit

Published by Diamond Publications X-30 Okhla Industrial Area, Phase II, New Delhi 110020 www.diamondpublication.com; sales@diamondpublication.com
2004 (Rs. 200.00)
ISBN:81-89182-12-9

With arrangement with Authors Guild of India

Be Sociable, Share!

3 Responses to “पिघलती शिला”

  1. gajanan Says:

    pls send me stories thank you……….

  2. Hrishitha rayapati Says:

    pls write small stories because the stories are too long…….

  3. Hrishitha rayapati Says:

    The stories are good but don’t forgot about the stories it should be short.I will visit this blog once more.