List of my stage-plays:-

स्कूल में नर्सरी-क्लास से ही मैं स्टेज़ पर शो करती थी |अतीत धुँधला सा गया है, कुछ अधिक याद नहीं आ रहा |हाँ,
१–सन -१९५७ में हिन्दी नाटक , “नूरजहाँ” में नूरजहाँ के रोल के लिए मुझे बैस्ट एक्टिंग का अवार्ड़ मिला था |
२–सन्-१९५८-में हिन्दी नाटक , “भिक्षुणी”-के लिए फिर बैस्ट एक्टिंग का अवार्ड़ लिया |(न्यूज़-पेपरों में भी सराहा गया)
३–“नव रस -प्रोग्राम” में मैं हिन्दी साहित्य के नौ -रस की एक्टिंग करती थी , जिसकी बहुत ड़िमांड़ होती थी |यह मैं काँलेज में भी करती रही |एन. सी. सी कैम्प्स में भी यह प्रोग्राम चलता रहा |
इसके बाद १९५९ में मैं जबलपुर में होम-साइंस काँलेज पढने
गई |
४–सन -१९६० में जयशंकर प्रसाद की काव्य-पुस्तक “कामायनी” पर नृत्य-नाटिका में अभिनय किया |
५–सन -१९६१ में हिन्दी नाटक , “बुदधा ” में बैस्ट एक्टिंग का अवार्ड़ लिया |
६–सन १९६२ में नृत्य-नाटिका , “हाड़ा रानी” , में फिर बैस्ट एक्टिंग का अवार्ड़ लिया |
७–सन्–१९६८ में हवाबाग काँलेज में एम.एड़ करते हुए “हाड़ा रानी” नृत्य-नाटिका का निर्देशन एवम एक्टिंग भी की |फिर से बैस्ट एक्टिंग का अवार्ड़ लिया |
इसके पश्चात सन्-१९७० में विवाह के बाद गृहस्थी में व्यस्त हो गई |
८–सन्–१९८८ में नाटक ग्रुप “आयाम” शुरू किया |इसके अन्तर्गत बादल सरकार का हिन्दी-नाटक “भूत बंगला “खेला |
९–सन्–१९९६ में मशहूर पंजाबी नाटक , “भगतसिंग दी वापसी “में भगतसिंग की माँ का यादगार रोल किया |हम
शहीद भगतसिंग के गाँव में उसके घर गए और वहाँ भी शूटिंग की |पूरी टीम यू.एस का वीज़ा लेने गई , लेकिन १४ में से ८ को वीज़ा मिला और हमारे ४ शॉस जो अमेरिका में होने थे वो कैंसल किए गए |
१०–सन्–१९९७ -में कमल विद्रोही का स्टेज़ प्ले , “दुल्ला भट्टी” पंजाबी में किया |”लद्दी” दुल्ले की माँ का पावरफुल रोल किया , जो बहुत सराहा गया |
इसके बाद घर- गृहस्थी में व्यस्त हो गई |

Be Sociable, Share!

Leave a Reply