Archive for the ‘Random’ Category

बिकाऊ कोख (लघु कथा)

Thursday, August 17th, 2017

मुम्बई के मलाड की ओर मालावाड में झुग्गी, झोपड़ी मे रहने वाले गरीबों की बस्तियाँ बहुत हैं | जहाँ औरत की अस्मत के सौदों के अलावा राजनीति भी बिकाऊ है…और अब तो अजीबो-ग़रीब सौदे होते हैं | जी हाँ , पेट की क्षुधा बुझाने की खातिर! घर के मर्द घर से सुबह-सवेरे निकल जाते हैं […]

संस्मरण—बटकुट की वादियाँ

Wednesday, August 2nd, 2017

A three weeks visit to the valley of Batkut in Kashmir.Its natural beauty ‘s description and about the life of Nomades -how the auther had experienced it.

शाहतूश शाल

Monday, July 17th, 2017

How the world famous , most precious Shahtush Shawls are made and what are the sources to get the material for it .what is the criteria for fixing its value,and lots of details about SHAHTUSH.

ढलती साँझ 

Tuesday, September 20th, 2016

Senior. Citizens need to be taken care of.New generation should feel and show love and sympathy towards them.

कथा ,कहानी और काव्य का पाठ

Sunday, May 1st, 2016

लिखे हुए को पढ कर सुनाने से उसकी प्रभाव गहर

Thanks giving(धन्यवाद अर्पण )

Monday, November 23rd, 2015

   Thanksgiving  केनेडा और अमेरिका मे नैशनल holiday  मनाया जाता है । कहते है कि इसमें ईश्वर  से फसल रुपी आशीर्वाद मिलने पर उसे धन्यवाद दिया जाता है ।और आनेवाले वर्ष मे भी ऐसा ही सौभाग्य प्रॉप्त हो यह प्रार्थना की जाती है । केनेडा मे अक्टूबर के दूसरे  सोमवार को प्रति वर्ष Thanksgiving मनाया जाता […]

Thanks giving (धन्यवाद अर्पण ) का त्यौहार

Monday, November 23rd, 2015

यह त्यौहार सन् 1620 मे घटी घटना से संबंधित है। एक समुद्री पोत मे saints’ कहलाने वाले साधु और कुछ भ्रमण प्रिय लोग जो खोज के दीवाने थे (Adventurers)..वे आज मैसाचुसेट्स कहलाए जाने वाली धरती के समुद्री तट पर आ लगे थे ।यात्रा बहुत लम्बी होने के कारण कुछ ही लोग बचे थे ।ईश्वर मे […]

We both in Pahalgam on Aug 2014

Wednesday, June 3rd, 2015

sannato ke pahredar

Tuesday, September 30th, 2014

सन्नाटों के पहरेदार प्रथम संस्करण १९९९ प्रस्तुत है- द्वितीय संस्करण मन हर्षित है कि “सन्नाटों के पहरेदार” के पंद्रहवें वर्ष में पदार्पण पर इसका द्वितीय-संस्करण प्रस्तुत किया जा रहा है |१४ सितम्बर को हिंदी-दिवस के उपलक्ष्य में हिंदी-भाषा पर चार कविताएं,दो ग़ज़लें और दो अन्य कविताएं इनमें और डाल दी गई हैं |हिंदी भाषा के […]

Films n’Radio Programmes I did

Friday, July 29th, 2011

कुछ फिल्मों में काम किया था | दबाव था कि ,आप मुम्बई में रहें , यह संभव नहीं था, क्योंकि मेरी प्राथमिकता मेरा परिवार था |खैर, ८० के दशक में शायद १९८८ में मैंने पहली फिल्म की |- १–सन्-१९८८–पंजाबी फिल्म–“पुर्जा-पुर्जा कट मरे” ड़ायरेक्टर-सुरेन्दर साहनी , मेन कास्ट-गुग्गू गिल और उपासना सिंग, शूटिंग –काहलों गाँव में […]