हाज़िर है इक ‘शेर’

दर्द औ ग़म की दोस्ती में
ज़ख्मों की आदत जिग़र को हो गई…!

Be Sociable, Share!

One Response to “हाज़िर है इक ‘शेर’”

  1. Veena Says:

    Shukriyaa