मेरी चुनिंदा पंजाबी कविताएं—-चरीटां दी चीख़

मेरे हिक ते चरीटां पै गैयां ने
ओहना चरीटां विच्चों
कुज अक्खर पए दिसदे ने
ओहनां अक्खरां ने
मेरे तों मुँह मोड़ लया ए
ताँ मेरा सारा ज़िस्म
अग्ग वाँग बल्लण लग पया ए
हिक ते चरीटां दा लहू
टप-टप डिग रहया ए
ओहदे भार नाल
डूँगे टोये बण रहे ने
ताँ ऍ ज़्ख़्मां दा कारवां
हौले-हौले तुरदा होया
मैनूँ ग़ालदा जाँदा ए|
हिक ने जिस्म नूँ
बुक्कल पा लइये
ते चरीटाँ चों
रिसदा लहू
बुक्कल विच्चों
चाहतियाँ मार के
ज़ोर-ज़ोर नाल
चीख़ रहया ए !!!!!

वीणा विज ‘उदित्’

Be Sociable, Share!

Comments are closed.