पंजाबी —जुर्रत!

इक इकल्ली
भटकदी रूह ने
हनेरयाँ विच
हौके भरदी रात नूँ
चुन्नीवट -पैण
बनाण दी
हिमाकत कीती ए !
जिस्म वँजा के रूह
छुप्पन दी थाँ
लबदी ए
औतरी रात वी
चन गँवा के
बेवा हो गइये
थोड़ ने हत्थ अड़ के
साथ लब्बन दी
हिम्मत कीती ए !
इक्को जई सट
दे ज़्ख़्मां नाल
रोंदियाँ ने
ऍ रूहाँ ते राताँ
सदा कट्ठियाँ होंदियाँ ने
दोना दियां लोहणा ने
कुछ करन दी
जुर्रत कीती ए !!!!!!

वीणा विज ‘उदित्’

Be Sociable, Share!

Comments are closed.