निर्झर

नूतन देहयष्टि का लिया
प्रथम आलिंगन
अनछुए बदन में
मचली सिहरन !
तन-बदन के सहस्त्र छोर
तक सका न जिन्हें कोई और
चप्पा-चप्पा, हर इक पोर
तुम्हारे स्पर्श से हुए विभोर !
सूर्य-किरण जहाँ न जा पाए
उन अँधियारों में जा समाए
हो तुमसे आत्मसात
मचले अरमान !
बाँहों में भर पाऊँ
तुम जाते निकल
पल-पल प्रतिक्षण
आता नव जल !
कितने नटखट हो
गुदगुदाते, छेड़खानी करते
अरमान जगा
झटसे जाते निकल !
निर्झर…..!
तुम हो शीतल निर्मल
कल-कल नाद करते
बढ़ते रहते अविचल !
जल-क्रीड़ा के
अनुभव से जाना
है कितना सुखद
इक-दूजे में समाना !!

वीणा विज ‘ उदित ‘

Be Sociable, Share!

One Response to “निर्झर”

  1. anoop Says:

    अनुपम भावनाओ का वर्णन
    छिपा हुआ दैहिक दर्शन
    सहज अनुभूतिया वर्णित
    कर देती यू ही विस्मित
    भावनाओ का माध्यम जल है
    कितना सुखद इक दूजे मे
    समाने का प्रतिफल है.

Leave a Reply