ठूँठ

दरिया तीरे

हरियाली अपार

द्वीप के मध्य

अकेला

तना था ठूँठ ।

बाट जोहता था

बसंती बयार

फागुनी धूप की ।

सूखे थे सभी

हरीतिमा लपेटे वृक्ष

सर्द शरद में

मृतप्रायः से।

फूट पड़े सभी में

नव अंकुर बसंत में

लहलहाए धीरे-धीरे ।

अभागा ठूँठ ही

रहा सूखा

धूप ने सेंका

बासंती झोंके लहराए

मेघों से बूँदें झरीं

फिर भी गोद न भरी

बाँझ की पीड़ा

झेलता मायूस

ठूँठ…।

पुनः आस्था मुर्झाई

इस बार भी

इंतजार !

हरे वृक्षों के पत्ते हरे

लगे मुँह चिढ़ाने

कोंपलें इतराईं

संगी-साथी छोड़ गए

वे सब हरे-भरे ।

कैसी किस्मत पाई

विश्वास की डोर

थामे हर पल

बेरंग,

बेजान

स्वप्न देखता

फिर सुबह होगी जीवन की

चिर आस लिए

है प्रतीक्षारत…फिर भी

ठूँठ !!

वीणा विज उदित

Be Sociable, Share!

Comments are closed.